कोरोना काल में एम्बुलेंस सबसे ज्यादा जरूरी भूमिका निभा रहा है. हालाँकि बढ़ते केसों की वजह से एम्बुलेंस की किल्लत भी हो गई है. सड़क पर दौड़ते भागते एम्बुलेंस और उनके सायरन की आवाज स्थिति की भयावहता को बयान करता है लेकिन कई लोग महामारी के वक़्त भी एम्बुलेंस के बेजा इस्तेमाल से बाज नहीं आ रहे. वाराणसी में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है. जहाँ एक एम्बुलेंस के अंदर तीन युवक और एक युवती रंगरेलियां मना रहे थे. उन्हें रंगे हाथों पकड़ा गया.

ये भी पढ़ें : अल जजीरा के दफ्तर के बाद अब इजरायल ने गाजा में किया हमास के चीफ का घर ध्वस्त, गाजा पर अब तक का सबसे भीषण हमला

घटना वाराणसी स्थित रामनगर थाना क्षेत्र की है, यहां सुजाबाद चौकी इलाके में पुलिस चौकी के पास सुनसान इलाके में बंद एंबुलेंस को लोगों ने हिलते हुए पाया, काफी समय बाद भी जब एंबुलेंस वहां से नहीं हटी, तब इलाके के लोगों को शक हुआ और उन्होंने पुलिस को बुलाकर छानबीन करवाई तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ. एम्बुलेंस के अंदर तीन युवक और एक युवती आपत्तिजनक अवस्था में थे. पुलिस ने चारों को पकड़ लिया और एंबुलेंस जब्त करके चारों के खिलाफ मुकदमा दर्ज करते हुए जेल भेज दिया है.

ये भी पढ़ें : महिला की मार्मिक अपील ‘सरकार लॉकडाउन खोल दीजिये, घर बैठा पति दिन रात सेक्स मांगता है’

पता चला है कि एंबुलेंस मंडुआडीह क्षेत्र के गंगा सेवा सदन नामक एक निजी अस्पताल की है, जिसे अस्पताल वालों ने एक युवक को किराए पर चलाने के लिए दे रखा था. इसके अलावा इस अस्पताल की पहले भी कई और शिकायतें और अनियमितताएं मिल चुकी हैं जिसकी अभी जांच चल रही है.