बीते दिनों का वो विडियो तो आपको याद ही होगा जिसमे बाली घुमने गया एक परिवार अपने सूओत्केस में होटल का सामान भर लेता है लेकिन फिर पकडे जाने पर अपने साथ साथ पुरे देश की भी इज्जत को मटियामेट कर देता है। हम या आप जब भी किसी दुसरे देश में जाते हैं तो वहां अपने देश के रिप्रेजेंटेटिव के तौर पर जाते हैं। हमारे अच्छे काम और अच्छी हरकतें ना सिर्फ हमारा बल्कि हमारे देश का भी दुसरे देश के लोगों की नज़रों में एक अच्छा प्रभाव डालती है। लेकिन कुछ लोग ऐसे होते हैं जो देश की साख पर बट्टा लगाने का काम करते हैं।

लगता है ऐसे ही भारतीय लोगों से स्वीटजरलैंड (Switzerland) त्रस्त है। स्वीटजरलैंड के एक होटल होटल जीस्टैड ने भारतीय मेहमानों के लिए एक आचार संहिता जारी की है जिसमे उनके रहने के तौर तरीकों का विवरण है। भारतीय मेहमानों के लिए जारी इस नोटिस में होटल में रहने के कायदों की जानकारी है।

होटल के मैनेजर क्रिस्टीन मैट्टी के दस्तखत वाली नोटिस में कहा गया है कि भारतीय मेहमान नाश्ते की मेज से कुछ भी उठाकर नहीं ले जाएंगे और वहीं पर बैठकर खाएंगे। नोटिस में कहा गया है, ‘कृपया अपने साथ कुछ न ले जाएं, यहां का खाना सिर्फ नाश्ते के लिए है। आपको यदि लंच बैग चाहिए तो आप सर्विस स्टाफ से ऑर्डर करें और इसके लिए भुगतान करें।’

ये भी पढ़ें Viral Video: बाली के होटल से भारतीय परिवार ने चुराए सामान, चेकिंग के दौरान हुए बरामद

इस आचार संहिता में शोर शराबा ना करने को कहा गया है। नोटिस में है “आपके अलावा होटल में दुनिया भर से आए मेहमान रहते हैं। वे भी शांति और सहजता चाहते हैं, इसलिए हमारा अनुरोध है कि कॉरिडोर में शांति बनाए रखें और बॉलकनी में भी तेज आवाज में बात न करें।”

उद्ध्योगपति हर्ष गोयनका ने इस सम्बन्ध में आपत्ति जताते हुए ट्वीट किया साथ ही भारतीय पर्यटकों को नसीहत भी दी। गोयनका ने ट्वीट किया – मैं इससे गुस्सा और अपमान महसूस कर रहा हूँ और इसका विरोध करना चाहता हूँ। इस नोटिस से ऐसी धारणा बन रही है कि भारतीय तेज बोलते हैं, असभ्य हैं और पर्यटकों के रूप में सांस्कृतिक रूप से संवेदनशील नहीं हैं। मैं भारतीय लोगों से भी यह अनुरोध करता हूँ कि वे अपनी छवि में सुधार करें। अब जब भारत एक इंटरनेशनल पावर बनता जा रहा है, हमारे पर्यटक हमारे ग्लोबल एम्बेसडर हैं। हम सबको मिलकर इस छवि को बदलना होगा।”

भारतीय लोगों को अपने बर्ताव में सुधार करना होगा, वरना ऐसा न हो कि इंडिया का नाम सुनते ही विदेशी लोग नाक भौं सिकोड़ने लगे .