सिविल डिफेंस में भर्ती के विज्ञापन में सिक्किम (Sikkim) को अलग देश बताने पर केजरीवाल सरकार ( Arvind Kejriwal) हर तरफ से घिर गई तो सफाई देने की मुद्रा में आ गई. इस विज्ञापन के बाद दिल्ली सरकार की काफी किरकिरी हुई. साथ ही सिक्किम सरकार भी इस विज्ञापन को देख कर भड़क गई. अखबार में विज्ञापन प्रकाशित होते ही सिक्किम सरकार ने बेहद कड़ी आपत्ति जताते हुए इसे तुरंत वापस लेने की मांग की.

सिक्किम के सीएम प्रेम सिंह तमांग ने भी ट्वीट कर इस ऐड पर गहरी आपत्ति जताई. उन्होंने लिखा, ‘सिक्किम भारत का हिस्सा है. यह (विज्ञापन) बिल्कुल निंदनीय है और मैं दिल्ली सरकार से गलती सुधारने का आग्रह करता हूं. दिल्ली सरकार का यह विज्ञापन विभिन्न प्रिंट मीडिया में प्रकाशित हुआ है जिसमें सिक्किम को भूटान और नेपाल जैसे देशों के साथ रखा गया है. सिक्किम 1975 से भारत का अंग है और एक हफ्ता पहले ही राज्य का स्थापना दिवस मनाया.’

दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल ने भी इस विज्ञापन पर आपत्ति जताई. उन्होंने ये भी कहा कि विज्ञापन छपवाने वाले अधिकारी को निलंबित कर दिया गया है और विज्ञापन को वापस लेने का आदेश दिया गया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘विज्ञापन के जरिए सिक्किम को पड़ोसी देशों की श्रेणी में रखकर भारत की क्षेत्रीय अखंडता का अपमान करने के कारण सिविल डिफेंस डायरेक्टरेट हेडक्वॉर्टर के एक वरिष्ठ अधिकारी को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है. इस तरह के गंभीर दुराचार के प्रति जीरो टॉलरेंस! विज्ञापन को वापस लेने का भी निर्देश दे दिया गया है.’

किरकिरी के बाद बैकफुट पर आये मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने भी सफाई देते हुए कहा, ‘सिक्किम भारत का अभिन्न अंग है। इस तरह की गलतियों को बर्दाश्त नहीं किया जा सकता. विज्ञापन वापस लिया जा चुका है और संबंधित ऑफिसर के खिलाफ कार्रवाई की गई है.’