अपने जन्मस्थान अयोध्या (Ayodhya) में वर्षों से टेंट में रह रहे रामलला (Ramlala) अब टेंट से उठाकर अस्थाई मंदिर में शिफ्ट हो गए हैं. रामलला को आज बुधवार को नवरात्रि के पहले दिन अस्थायी फाइबर मंदिर में शिफ्ट किया गया. ये अस्थाई मंदिर फाइबर का बना हुआ है और इसने चांदी के सिंहासन पर रामलला को विराजमान किया गया है.

रामलला की शिफ्टिंग के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद थे. आज सुबह 3 बजे रामजन्मभूमि परिसर में स्थित गर्भगृह में रामलला को स्नान और पूजा-अर्चना के बाद अस्थायी मंदिर में शिफ्ट कर दिया गया. फाइबर के नए मंदिर में रामलला को विराजमान करने के लिए अयोध्या के राजघराने की तरफ से चांदी का सिंहासन भेंट किया गया है. साढ़े नौ किलो का यह सिंहासन जयपुर से बनवाया गया है.

अस्थाई मंदिर

सिंहासन के पिछले हिस्से पर सूर्य देव की आकृति और दो मोर बने हैं. अब तक मूल गर्भगृह के अस्थायी मंडप में रामलला लकड़ी के सिंहासन पर विराजित थे. अयोध्या राजघराने के राजा विमलेंद्र मोहन मिश्र स्वयं यह सिंहासन लेकर अयोध्या से आए थे.

इसी सिंहासन पर विराजमान हैं रामलला

नए अस्थाई मंदिर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रामलला की आरती की. इस दौरान सीएम योगी ने भव्य मंदिर के निर्माण हेतु ₹11 लाख का चेक भेंट किया.