माइक्रोब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर बैन लगाने के बाद नाइजीरियाई सरकार ने भारत के ‘Koo’ ऐप को शुरू करने की अनुमति दी है. नाइजीरिया के राष्ट्रपति के एक पोस्ट को हटाने से नाराज सरकार ने देश में ट्विटर को अनिश्चित काल के लिए बैन कर दिया है.

नाइजीरिया के सूचना और संस्कृति मंत्री लाई मोहम्मद ने कहा कि हमारी सरकार के लिए नाइजीरिया की संप्रभुता सबसे महत्वपूर्ण है. उन्होंने ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के आधिकारिक पंजीकरण पर जोर दिया.  मंत्री लाई मोहम्मद ने कहा, “मुख्य बात यह है कि ट्विटर के पास नाइजीरिया में लाइसेंस होना चाहिए और ट्विटर को अपने मंच का उपयोग उन गतिविधियों के लिए करना बंद कर देना चाहिए जो नाइजीरिया के विकास या उसके कॉर्पोरेट अस्तित्व के प्रतिकूल हैं.”

नाइजीरिया के प्रसारण नियामक नेशनल ब्रॉडकास्टिंग कमीशन ने सभी स्थानीय रेडियो और टेलीविजन केंद्रों को ट्विटर के उपयोग को निलंबित करने का आदेश दिया है. नाइजीरिया में ट्विटर को बैन किए जाने के एक दिन बाद भारतीय कंपनी Koo ने नाइजीरिया में अपनी उपस्थित के बारे में ऐलान किया है. Koo के सीईओ अपरामेय राधेकृष्णा ने न केवल ऐप की सेवाएं नाइजीरिया में उपलब्ध होने की पुष्टि की बल्कि ये भी कहा कि इस ऐप को जल्द ही नाइजीरिया की स्थानीय भाषा में भी मुहैया कराया जाएगा. नाइजीरिया में हौसा, लग्बो और योरूबा जैसी करीब पांच सौ स्थानीय भाषाएं बोली जाती हैं.

Koo ऐप भारत की एक माइक्रोब्लॉगिंग साइट है, जहां पर यूजर्स 400 अक्षरों में अपनी बात को रख सकते हैं. कू ऐप पर भारतीय भाषाओं में लिखने का विकल्प है. यूजर्स ऑडियो, वीडियो भी शेयर कर सकते हैं.