एक तरफ तो भारत कोरोना से जूझ रहा है वहीँ दूसरी तरफ देश को वामपंथियों के प्रोपगैंडा से भी जूझना पड़ रहा है. CAA के खिलाफ मुसलमानों को भड़काने, कोरोना का इलाज करने वालों डॉक्टरों पर पत्थर बरसाने वालों का खुलकर बचाव करने के बाद अब वामपंथी नयी नीचता पर उतर आये हैं. उनका नेतृत्व कर रही है अरुंधती रॉय (Arundhati Roy).

अरुंधती रॉय ने जर्मन न्यूज नेटवर्क डॉचे वेले (DW) से कहा कि ‘यह संकट मुसलमानों के प्रति घृणा का है जो दिल्ली में हुए नरसंहार के तुरंत बाद सामने आया है. दिल्ली में मुस्लिम विरोधी कानून के खिलाफ प्रदर्शन के कारण दंगे हुए थे. कोविड-19 की आड़ में सरकार युवा विद्यार्थियों को गिरफ्तार कर रही है. वकीलों, वरिष्ठ संपादकों, सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों के खिलाफ केस दर्ज कर रही है. कुछ को हाल ही में जेल में डाल दिया गया.

अरुंधती रॉय यहीं नहीं रुकी, उन्होंने कोरोना से निपटने वाले सरकार के इन कदमों की तुलना नाजी होलोकास्ट से कर दी. उन्होंने कहा कि सरकार कोरोना संकट का जैसा रणनीतिक इस्तेमाल रही है वह याद दिलाता है कि कैसे नाजियों ने होलोकास्ट की रणनीति बनाई थी.

उन्होंने आगे कहा ‘आरएसएस का पूरा संगठन जिससे मोदी आते हैं और जिससे बीजेपी का जन्म हुआ है, ने बहुत पहले ही कहा था कि भारत को हिंदू राष्ट्र होना चाहिए. इसकी विचारधारा भारत के मुस्लिमों को जर्मनी के यहूदियों की तरह देखती है. अगर आप देखेंगे कि वो कोविड का कैसा इस्तेमाल कर रहे हैं तो पता चलेगा कि यह रणनीति कुछ ऐसी ही है जो यहूदियों की छवि बनाने में इस्तेमाल हुई थी.’

अरुंधती डॉक्टरों पर हमले करने के लिए उकसा रही है 

कभी आपने इस बात पर गौर किया कि मुस्लिम समुदाय कोरोना से बचाने वालों डॉक्टरों पर हमले क्यों कर रहा है? इसकी वजह है अरुंधती रॉय जैसे वामपंथी. जो मुश्किल वक़्त में देश के खिलाफ एजेंडा चला रहे हैं. अरुंधती रॉय ने विदेशी मीडिया में बयान दिया है कि कोरोना के बहाने भारत सरकार मुसलमानों का नरसंहार करना चाहती है. अब आप खुद सोचिये जो मुसलमान इन जैसे वामपंथियों के भड़काने से नागरिकता देने के क़ानून को नागरिकता छिनने का क़ानून समझ सड़कों पर ऊतर आता है, वो अरुंधती रॉय का बयान सुनकर डॉक्टरों पर हमले नहीं करेगा?

अरुंधती रॉय न सिर्फ दुनिया में भारत को बदनाम करने के एजेंडे पर काम कर रही है बल्कि डॉक्टरों पर हमला करने वाले देशद्रोहियों को भी बचा रही है. यूपी सरकार ने पत्थरबाजों पर कारवाई करनी शुरू कर दी है. देर सवेर बाकी राज्य भी ऐसी ही कारवाई करेंगे. ऐसे में अरुंधती रॉय उन पत्थरबाजों को बचाने का पूरा प्लाट तैयार कर रही है. अरुंधती रॉय विक्टिम कार्ड खेल रही है. खुद हमले करो और खुद को ही प्रताड़ित बताओ.