इजरायल (Israel) और फलिस्तीन (Palestine) के बीच जारी संघर्ष पर पूरी दुनिया की नज़रें टिकी है. भारत के लोग भी सोशल मीडिया पर दोनों के बीच के हालातों पर नज़र बनाये हुए हैं और अपनी अपनी टिप्पणी क्र रहे और अपना पक्ष चुन रहें हैं. लेकिन कानपुर के एक समाजवादी नेता को इजरायल-फलिस्तीन संघर्ष पर ज्यादा उत्तेजित होना महंगा पड़ गया और उनकी भारी फजीहत हो गई. अपनी उत्तेजना में वो ऐसी हरकत कर बैठे कि उन्हें माफ़ी मांगनी पड़ गई.

हुआ दरअसल ये कि कानपुर के सपा नेता मुनाफुद्दीन, आबिद और जफर खान ने अपनी राजनीति चमकाने के लिए शुक्रवार के दिन सुबह-सुबह फिलिस्तीन के समर्थन में एक बड़ी सी होर्डिंग लगा दी. जिसमें इजरायल के सामानों के बहिष्कार की अपील की गई थी. लेकिन इस होर्डिंग के लगाए जाने के बाद खुद उनके ही समुदाय के लोगों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया.

ये विरोध इतना अधिक हुआ कि तीन घंटे के बाद ही इन सपा नेताओं को मोहल्ले में से होर्डिंग उतारना पड़ा. जिसे बाद में लोगों ने जला दिया. अब होर्डिंग लगाने वाले तीनों नेता मोहल्ले वालों से माफी भी मांग रहे हैं. सबसे विचित्र बात तो ये रही कि इन लोगों ने अपने होर्डिंग में कानपुर के सपा अध्यक्ष डॉक्टर इमरान की तस्वीर उनसे बिना इजाजत लिए ही इस्तेमाल कर ली. होर्डिंग लगाने वाले नेता मुनाउद्दीन सपा के विधानसभा छावनी अध्यक्ष हैं बाकी दोनों वार्ड अध्यक्ष और उपाध्यक्ष हैं. इन तीनों का अब कहना है कि हमें होर्डिंग लगाने का अफसोस है, अगर किसी को इससे तकलीफ हुई हो तो हम माफी चाहते हैं.