चुनाव हारने के बाद बड़े बड़े नेता मायूस हो जाते हैं लेकिन अलका लांबा (Alka Lamba) तो सनक ही गई. कभी पीएम और सीएम को अपशब्द कह देती है तो कभी किसी को माँ-बाप की गाली दे देती है. और जब कोई अलका पर पलटवार करे तो महिला होने का विक्टिम कार्ड भी खेल देती है. कल उन्होंने पीएम मोदी और सीएम योगी के मुंह पर थूकने की बता करते हुए उन्हें नपुंसक कहा था. हालाँकि ये वीडियो तो था तो 2018 का लेकिन सोमवार को अलका ने इस वीडियो को फिर से शेयर किया तो लोग भड़क गए. ट्विटर पर #ArrestAlkaLamba ट्रेंड करने लगा. अब अलका लाम्बा पर FIR दर्ज हो गई है.

अलका लांबा के खिलाफ यह एफआईआर उत्तर प्रदेश राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की सदस्य प्रीति वर्मा ने दर्ज कराई है. अलका लांबा के खिलाफ आईपीसी की धारा 504, धारा 505 (1)(बी), 505 (2) और सूचना प्रौद्योगिकी (संशोधन) अधिनियम 2008 की धारा 67 के तहत मामला दर्ज किया गया है.

प्रीति वर्मा ने अपनी शिकायत में कहा है कि अलका लांबा ने अपने ट्विटर अकाउंट पर 25 मई की रात 12 बजकर 7 मिनट पर एक बेहद अपमानजनक ट्वीट किया था. शिकायत में बताया गया है अलका ने एक वीडियो अपलोड किया था जिसमें पीएम मोदी और सीएम योगी के लिए अपमानजनक शब्दों का इस्तेमाल किया गया था. इसके साथ ही एक दूसरे ट्वीट में भ्रामक आरोपों के साथ हाईकोर्ट के न्यायाधीश पर भी सवाल खड़े किए गए हैं जो कोर्ट की अवमानना के अंतर्गत आता है.