आज पीएम मोदी (Narendra Modi) ने अपने विडियो सन्देश में लोगों से 5 अप्रैल को रात 9 बजे अपने घरों की छत और बालकनी में दिया, मोमबत्ती या टॉर्च जलाने की अपील की. ये अपील मुश्किल के वक़्त में एकजुटता प्रदर्शित करने का एक तरीका मात्र है. जब दुनिया में कोरोना का अंधकार छाया हुआ है तब पीएम मोदी ने देशवासियों से न घबराने की अपील की और कहा अपने घरों की रौशनी से कोरोना के अंधकार को परास्त करना है.

लेकिन जैसा कि हर बार होता है, पीएम मोदी की बातों से कलेजा जलाने और छाती कूटने वाली गैंग लिब्रांडूओं का कलेजा फूंक जाता है. इस बार भी परंपरा टूटी नहीं. बात बात पर कैंडल मार्च निकालने वाले लिब्रांडू गैंग का कलेजा इस अपील से भी फूंक गया. उसी छाती कूटो गैंग की सदस्य हैं श्रुति सेठ. अरे वही सीतापुर के टिकट की ख्वाहिश रखें वाली श्रुति सेठ (Shruti Seth). पिछली बार उन्हें 21 दिन के लॉकडाउन के ऐलान से परेशानी हुई थी. इस बार उन्हें दिया जलाने वाले अपील से परेशानी हो गई. लेकिन लोगों ने उनका छीछालेदर कर दिया.

पीएम मोदी के विडियो सन्देश के बाद श्रुति ने ट्वीट किया ‘क्या हमारे पास कोई बेहतर हल है? लोग बेघर हैं, भूखे हैं, बेरोजगार हैं. मोमबत्ती जलाने से ये सब कैसे ख़त्म होगा?’

अब श्रुति को कौन समझाए कि इनसब के लिए सरकार कोशिश तो कर ही रही है. ये मोमबत्ती और दिया तो इसलिए जलवाया जा रहा है ताकि लोगों में पॉजिटिविटी बनी रहे. लेकिन एजेंडेबाजों को ये कहाँ समझ आएगा. उसके बाद लोगों ने श्रुति का छीछालेदर कर दिया.