राजनीति में विरोधियों पर आरोप लगाना आम बात है. अरविन्द केजरीवाल को इसमें महारत हासिल है. वो कई बार गलत आरोप लगाने के लिए माफ़ी मांग चुके हैं. अब कांग्रेस नेता जयराम रमेश (Jairm Ramesh) को भी गलत आरोप लगाने के लिए लिखित में माफ़ी मांगनी पड़ी है. जयराम रमेश ने राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल (Ajit Doval) के बेटे विवेक डोवाल (Vivek Doval) से मांफी मांगी है. विवेक डोवाल ने जयराम रमेश के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर कर रखा था.

मामला 2019 का है. ‘द कारवां’ नाम की एक वेब मैग्जीन ने अजीत डोभाल और उनके परिवार पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि अजीत डोभाल के बेटे विवेक डोभाल केमैन आइलैंड में हेज फंड चलाते हैं. यह हेज फंड 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नोटबंदी की घोषणा के महज 13 दिन बाद पंजीकृत किया गया था. विवेक का यह व्यवसाय उनके भाई शौर्य डोभाल के व्यवसाय से जुड़ा है. इसी लेख के आधार पर जयराम रमेश ने विवेक डोवाल पर आरोप लगाये थे.

ये भी पढ़ें रुबिका लियाकत ने पूछा सिर्फ एक सवाल और यूपी के भावी सीएम AAP के संजय सिंह की उड़ गई धज्जियाँ

विवेक डोभाल ने ‘कारवां पत्रिका, इस लेख के लेखक तथा जयराम रमेश के खिलाफ शिकायत दायर की. जयराम रमेश ने इन आरोपों पर माफ़ी मांगते हुए कहा, ‘मैंने विवेक डोभाल के खिलाफ बयान दिया. चुनावों के समय मैंने गुस्से में आकर कई आरोप लगाए. मुझे इसका सत्यापन करना चाहिए था.’

इया माफ़ी पर विवेक डोभाल ने कहा, ‘जयराम रमेश ने माफी मांगी है और हमने इसे स्वीकार कर लिया है. कारवां पत्रिका के खिलाफ आपराधिक मानहानि का मामला जारी रहेगा.’