चीन के मशहूर अरबपति और और अलीबाबा समूह के मालिक जैक मा (Jack Ma) 2 महीनों से लापता हैं. उनके लापता होने की खबर दुनिया भर में फ़ैल गई है. पिछले 2 महीनों इ न तो किसी ने उन्हें देखा और न किसी को उनके बारे में कोई खबर है. उनके गायब होने के पीछे चीन सरकार का हाथ बताया जा रहा है क्योंकि उन्होंने चीन सरकार के कामकाज के रवैये पर सवाल उठाया था.

जैक मा ने देश के ‘ब्‍याजखोर’ वित्‍तीय नियामकों और सरकारी बैंकों की पिछले साल अक्‍टूबर में शंघाई में दिए भाषण में कड़ी आलोचना की थी. इसके बाद चीनी अधिकारियों ने जैक मा पर पलटवार किया था और उनकी कंपनी एंट ग्रुप के आईपीओ को स्थगित कर दिया गया था.पिछले हफ्ते चीन की एजेंसियों ने कहा था कि वे जैक मा की कंपनी एंट ग्रुप के खिलाफ एंटीट्रस्ट जांच शुरू कर रहे हैं. साथ ही एंट ग्रुप को कंज्यूमर फाइनेंस ऑपरेशन को रोकने का आदेश भी दिया था.

ये पहली बार नहीं है जब चीन में कोई अरबपति यूँ ही गायब हो गया हो. फोर्ब्स की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 2016 से 2017 के बीच चीन के कई अरबपति गायब हो गए थे. जैक मा के गायब होने के पीछे चीन सरकार का हाथ इसलिए बताया जा रहा है क्योंकि अपनी सरकार के खिलाफ आवाज उठाने वालों का चीन में ऐसा ही हश्र होता है. गायब हुए लोग दोबारा कभी सामने नहीं आते इसलिए उनके जिंदा होने की तमाम गुंजाइशें भी ख़त्म हो जाती है.

मा से पहले शी जिनपिंग की आलोचना करने वाले प्रॉपर्टी बिजनसमैन रेन झिकियांग लापता हो गए थे. उन्‍होंने कोरोना को सही से निपटने के लिए शी जिनपिंग को ‘मसखरा’ बताया था. बाद में उन्‍हें 18 साल के लिए जेल भेज दिया गया. चीन के एक अन्‍य अरबपति शिआन जिआनहुआ वर्ष 2017 से नजरबंद हैं.