चीन के साथ तनाव के बीच आज पीएम मोदी अचानक लेह (PM Modi In Leh) क्या पहुंचे चीन (China) को मिर्ची लग गई. चीनी विदेश मंत्रालय ने इस दौरे पर बयान दिया है. चीन का कहना है कि कोई भी पक्ष कुछ भी ऐसा ना करे, जिसे माहौल खराब हो. पीएम मोदी के लेह दौरे से चीन में कितनी बेचैनी है ये चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता झाओ ल‍िजिन के बयान से समझा जा सकता है. झाओ ल‍िजिन ने कहा कि माहौल को हल्‍का करने के लिए भारत और चीन संपर्क में हैं.

रोजाना होने वाली ब्रीफिंग में चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियान ने कहा कि भारत और चीन लगातार सैन्य और डिप्लोमेटिक बातचीत के जरिए बॉर्डर पर जारी तनाव को कम करने में लगे हुए हैं. ऐसे में किसी भी पार्टी को कुछ भी ऐसा नहीं करना चाहिए, जिससे बॉर्डर पर तनाव पैदा हो.

चीन के विदेश मंत्रालय का यह बयान ऐसे समय पर आया है जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अचानक से लेह की यात्रा पर पहुंचे हैं. प्रधानमंत्री आज अल सुबह करीब 11 हजार फुट की ऊंचाई पर स्थित नीमू बेस पर पहुंचे. उन्‍होंने सेना और आईटीबीपी के जवानों के साथ मुलाकात की और उनका हौसला बढ़ाया. इस दौरान पीएम मोदी के साथ सीडीएस बिपिन रावत और सेना प्रमुख भी मौजूद थे. तनाव के बीच प्रधानमंत्री ने अपने इस दौरे से चीन को यह बता दिया कि वह खुद वास्‍तविक नियंत्रण रेखा की रक्षा के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं.

ये भी पढ़ें पीएम मोदी अचानक पहुंचे लेह, जवानों से मुलाक़ात कर तैयारियों का ले रहे जायजा, CDS विपिन रावत भी साथ

पीएम मोदी ने लेह पहुँच कर चीन को सख्त सन्देश दे दिया है कि चीन 2020 के भारत को 1962 का भारत न समझे. पीएम मोदी के इस यात्रा से दुनिया में ये साफ़ सन्देश गया कि भारत चीन से टकराव के मूड में है. अगर चीन अब भी नहीं मानता तो उसे खामियाजा भुगतना पड़ेगा.