पहले कुछ संगठन और लोगों द्वारा CAA के खिलाफ मुसलमानों में गलत जानकारी फैलाई गई कि इससे उनकी नागरिकता छीन ली जायेगी. अब कोरोना के इलाज के लिए बने क्वारंटीन सेंटर के खिलाफ भी कुछ स्वार्थी लोगों द्वारा अफवाह फैला कर देश और सर्क्कार के खिलाफ भड़काया जा रहा है.

असम में ऑल इंडिया डेमोक्रैटिक यूनाइटेड फ्रंट (AIUDF) के विधायक अमीनुल इस्लाम (Aminul Islam) ने क्वारंटीन सेंटर्स को डिटेंशन सेंटरों से भी बदतर बताया और कहा कि मुसलमानों के खिलाफ साजिश कर उन्हें क्वारंटीन सेंटर्स भेजा जा रहा है. सोशल मीडिया पर उसकी एक क्लिप वायरल हुई थी. इसी क्लिप के आधार पर अमीनुल इस्लाम पर देशद्रोह की धाराएं लगाई गई हैं और उसे गिरफ्तार कर लिया गया है.

अमीनुल इस्लाम वायरल क्लिप में कहते हुए दिख रहा था कि कोरोना के लिए बने राज्य के क्वारंटीन सेंटर्स की हालत डिटेंशन सेंटर से भी बुरी है और मुस्लिमों के खिलाफ साजिश रची जा रही है. ऑडियो क्लिप में इस्लाम कह रहा हैं कि सरकार मुसलमानों के खिलाफ साजिश रच रही है और तबलीगी जमात से जुड़े लोगों को आइसोलेशन में क्वारंटीन सेंटर्स भेजा जा रहा है. उसने कहा सरकार क्वारंटीन सेंटर्स में किसी मुसलमान को मरवा सकती है और बाद में वह कहेगी कि कोरोना से मौत हुई थी.

असम के डीजीपी भास्कर ज्योति महंत ने बताया कि एआईडीयूएफ के ढिंग निर्वाचन क्षेत्र से विधायक अमीनुल इस्लाम को प्राथमिक जांच के बाद गिरफ्तार किया गया. आईपीसी (भारतीय दंड संहिता) की विभिन्न धाराओं के तहत उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है. इस्लाम को अदालत में पेश किया गया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया.

नौगांव के पुलिस अधीक्षक गौरव अभिजीत दिलीप ने मीडिया को बताया, ‘पूछताछ के दौरान इस्लाम ने कुबूल किया कि क्लिप में सुनाई दे रही आवाज उसी की है और उन्होंने स्वीकार किया कि क्लिप उसने ही बनाई थी. क्लिप उनके मोबाइल फोन पर भी थी इसलिए हमने उनका फोन जब्त कर लिया है. उन्होंने कहा कि उन्होंने यह क्लिप कुछ लोगों को फॉरवर्ड भी की है.’